Friday, July 20, 2007

Love and Friendship

I have heard people preaching "be the best friend of the person you love, or let him/her be the best friend of yours. You should be able to share everything with the person you love, you should be able to support each other in difficult situations, should be able to tell each other each and everything, and most importantly should not keep any secrets from each other".

Well, of all things I have realized till today, you cannot be the best friend of the person you love, or rather, you can not love your best friend. Sure, lovers can be friends to certain extent, but they can never even be good friends, leave aside being the best friend in that matter. And that is the very reason why the word love is used.

Now, for people who are fuming or deciding to mark this post as a total bullshit, this is the reason why I decided to write on this. Here is my logic behind a statement that I know perhaps 9 out of 10 people will oppose. I don't claim this will change your views, but will surely give you something to think about, something to reconsider the so called fact that "lovers are the best of friends".

Well, a best friend, or rather a friend is one to whom you can confide each of your secrets in, you can talk about all that you have done or have been a witness too, be it good or bad, fair or foul. In a friend, you do not fear being judged. In a friend, you need not think about what you say, because you know that whatever happens, a friendship, or rather a true one, can always be mended. Because you know, there exists no words or deeds in this world that can permanently ruin a friendship. All a friend can give you is total freedom, total independence to express all you want to say, all you want to do. Most importantly, you can talk about your crush, you can talk about the hot gals or dashing guys that you probably came across the last time you went shopping in a mall.

For Lovers, in reality, stuff like "do not keep secrets from each other" is only another saying, perhaps an unpronounced commandment of the bible, but is never ever practiced in real life. No one on earth could swear that he or she is totally clean to his/her lover. As a matter of fact, secrecy is the essence of a committed relationship. It is the suspense, the excitement of exploring the other person, that keeps a loving relation alive. A lover is one you could confide your pains in, a lover is one, from whom you can expect support and cooperation in all stages, all aspects of life. A lover is one who helps you through difficult situations. But then, a Lover is not the person you can say absolutely anything to. Can you expect saying your girlfriend or boyfriend that you really liked a gal or a guy you came across yesterday, that you thought she was very beautiful or he looked like Brad Pitt! Perhaps, nothing much would happen, but most of the people would not even dare to! Again, you would have to think twice before confiding your secrets in your lover, because there you have the fear of being judged, there you fear that he/she might leave you, after failing to accept the "not so bright" sides of yours.

Thus, you can only try to be a friend of the person you love, but I do not think its possible to develop a similar relation you have with your other friends. Also, its very difficult to fall in love with a very good friend of yours. For the darker sides of a friend might not bother you as long as you are just friends, but might be of concern when you try to take your relation to a next level, the level called Love.

LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

Thursday, July 19, 2007

एक अजनबी

एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा,
क्यूँ कोई दिल में आज मेरे धड़कने लगा

किससे मिलने को बेचैन है चाँदनी,
क्यूँ मदहोश है दिल की ये रागिनी,
बनके बादल वफ़ा का बरसने लगा
एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा

गुम हूँ मै गुमशुदा की तलाश में
खो गया दिल धड़कनो की आवाज़ में
ये कौन सांस बनके दिल में महकने लगा,
एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा

हर तरफ़ फ़िजाओं के हैं पहरे मगर,
दम निकलने न पायें जरा देखो इधर,
जिसकी आहट पर चाँद भी सँवरने लगा
एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा

रात के आगोश में फ़ूल भी खामोश है
चुप है हर कली भँवरा भी मदहोश है
बन के आईना मुझमें वो सँवरने लगा
एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा

ना मै जिन्दा हूँ ना मौत ही आयेगी
जब तलक न तेरी खबर ही आयेगी
बनके आँसू आँख से क्यूँ बहने लगा,
एक अजनबी अपना सा क्यूँ लगने लगा


LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

Saturday, July 14, 2007

एक चेहरा

एक चेहरा
जो पुराने सारे
चेहरे भुला दे

एक चेहरा
जो रातों की
निंदे उडादे

एक चेहरा
जिसे देखेने के बाद
किसी और को देखेने की
चाहत ना रहे

निगाहों की राहों से
दिल में उतरकर
वो चेहरा
मुझको चुरा ले गया है।

यादों में
सोचों में
खुदको बसाकर
तड़पने कि मुझको
सज़ा दे गया है।

एक चेहरा...

- तुषार जोशी, नागपूर

LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

Friday, July 13, 2007

प्यार की इबारत

कभी दिल के सफ़र में, मैं तुझसे दूर ना थी
पर तुझ तक सफ़र तय करने में वक़्त लगा

समझा नही मैने तेरी किसी बात को झूठा वादा
मैने अपने ख्वाबो का दरवाज़ा तेरे लिए खुला रखा

निशान बने रहे तेरी राहगुजर से मुझ तक आने के लिए
तेरे हर ख़्याल में हर बात में मैने ख़ुद को ज़िंदा रखा

बदल ना जाए कही तेरे नाम की लकीरे मेरे हाथों से
तेरा ही नाम अपनी ज़िंदगी की किताब में बार बार लिखा

कही फिर से ना बदल ले तू अपने प्यार की इबारत कभी भी
अपने प्यार से तेरी दुनिया तेरे जहाँ को मैने रोशन रखा !!

LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

Thursday, July 12, 2007

दिवाना कर दिया

उलझन में पड़ गया हूँ मैं दिल का क्या करूँ
छूकर किसीने दिल को दिवाना कर दिया

पुनम की चाँदनी से वो मुस्कुरा दिये
आबाद जिंदगी का विराना कर दिया

फुलों की सादगी थी मासूम हर अदा
बोले तो होश-ए-जाँ से बेगाना कर दिया

दुनियाँ बनाने वाले फरियाद है मेरी
क्यों झील सी आँखों का मैखाना कर दिया

निंदे मेरी उडादी लेकर गये करार
दर्दे-जिग़र का उसपे नज़राना कर दिया

-तुषार जोशी, नागपुर


LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

तुम, तुम और तुम

तुम, तुम और तुम
ख्वाबों में तुम, ख्यालों में तुम!

तुम, तुम और तुम
जीवन में तुम, जीवन के पार तुम!

तुम, तुम और तुम
हर लम्हा तुम, हर पल तुम!

तुम, तुम और तुम
सोचता तुम्हें, विचारता तुम्हें!

तुम, तुम और तुम
सोता तुम्हें, जागता तुम्हें!

तुम, तुम और तुम
उठता तुम्हें, बैठता तुम्हें!

तुम, तुम और तुम
खुली आंखों में तुम, बंद आंखों मे तुम!

तुम, तुम और तुम
सिमट सी गई है ज़िंदगी मेरी तुममें,
हां! तुममें ही!!

LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।

Friday, July 6, 2007

यह कौन...

यूँ ही रात बहती है कुछ धीमी -धीमी
यह कौन प्यार का गीत मुझे सुनता है

उस माथे को चूमा हमने यूँ होले से
जिसका चेहरा मुझे चाँद सा नज़र आता है

खिल गया है पलकों पर फिर ख्वाब कोई
यह कौन है जो सोई नींद से मुझे जगाता है

कानों में गूँजता है लफ्ज़ एक प्यार का
यह कौन मुझे सितारों की चुनरी उड़ाता है

यूँ लहका -महका सा आज दिल मेरा
जैसे कोई गुल भंवरे को देख के शरमाता है

चुरा ले आज मुझे दुनिया की नज़रो से सनम
जैसे ईद का चाँद नज़रो में समा के मुस्कराता है

LOVE IS GOD - प्रेम ईश्वर है।